मंगलवार, 7 फ़रवरी 2012

ख्वाब............





मुस्कुराती आँखों से कोई  ख्वाब छीन लेता है ! 
                                  कसमसाती रातों से कोई नींद भी चुन लेता है !!

                                  महकती  सांसों  में जो गीत गुनगुनाता है !
                                  हौले  से  छू  के मुझे चुपके से जगाता है !!

                                  दिल में जो  रहता है  हर वक़्त  हर लम्हा मेरे !
                                  वो  हकीकत है फिर भी ख्वाबों का हिस्सा मेरे !!

                                  कभी आ जाता  बिन बताये  वो  खयालों में !
                                  लगा  के  चुपके से  जाता  गुलाब  बालों  में !!

                                  महक-महक गई  हैं मेरी बातें जिसकी बातों से !
                                  सुलग सुलग गयीं हैं मेरी रातें जिसकी साँसों से !!

                                  कोई वादा नहीं और वादा खिलाफी  भी नहीं !
                                  वो मेरे पास नहीं...फिर भी...मुझसे दूर नहीं !!

26 टिप्‍पणियां:

  1. Prem jab unmaad ho jaata hai to aise ho jate .... Ye bayaar aisi hi hoti hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल में जो रहता है हर वक़्त हर लम्हा मेरे !
    वो हकीकत है फिर भी ख्वाबों का हिस्सा मेरे !very nice.

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कहूँ ...? बहुत कोमल एहसास से बँधी रचना मन को
    छू गई ! बेहतरीन हमेशा की तरह !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऊपर की पहली दस पंक्तियां लाजवाब है और मन को उद्वेलित कर
    दिया.......और अंतिम ये पंक्तियां.............
    कोई वादा नहीं और वादा खिलाफी भी नहीं !
    वो मेरे पास नहीं...फिर भी...मुझसे दूर नहीं !!
    ................सच में घायल कर गई
    अनुमति हो तो मैं इसे अपनी धरोहर बना लूं
    सादर
    यशोदा

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुलग सुलग गयीं हैं मेरी रातें जिसकी साँसों से !
    बहुत ही भाव-प्रवण कविता । मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी आ जाता बिन बताये वो खयालों में !
    लगा के चुपके से जाता गुलाब बालों में !!

    एक - एक शब्द मार्मिक है ...सुन्दरता से अभिव्यक्त हुई हैं भावनाएं .....!

    उत्तर देंहटाएं
  8. महक-महक गई हैं मेरी बातें जिसकी बातों से !
    सुलग सुलग गयीं हैं मेरी रातें जिसकी साँसों से !!

    वाह प्यार की प्यारी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक-एक शब्द मार्मिक है,सुन्दरता से अभिव्यक्त हुई हैं भावनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रचना, ख़ूबसूरत भावाभिव्यक्ति , बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. विरह वेदना की प्रस्तुति भावपूर्ण है ♀
    ------------
    कोई वादा नहीं और वादा खिलाफी भी नहीं !
    वो मेरे पास नहीं...फिर भी...मुझसे दूर नहीं !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कोई वादा नहीं और वादा खिलाफी भी नहीं !
    वो मेरे पास नहीं...फिर भी...मुझसे दूर नहीं !!

    bahut adbhut ehsaas...yahi to prem hai...sundar rachna ke liye badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. महक-महक गई हैं मेरी बातें जिसकी बातों से !
    सुलग सुलग गयीं हैं मेरी रातें जिसकी साँसों से !!

    बहुत सुंदर । .मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बढ़िया नज्म,,,,,लाजबाब
    अच्छी रचना,सुंदर प्रस्तुति ....

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं