रविवार, 29 जनवरी 2012

नमी ......






                                                               
मेरी हथेलियाँ
अभी तक नम हैं,
उनकी गर्मी में 
घुल गयी है
तेरी हथेलियों की नमी ! 
ये वो नमी है जो
दे जाती है मेरी आँखों को
एक अजीब सी ख़ामोशी...
तुम्हारी आँखें भी तो
कहती हैं मुझसे कुछ
अनकहा सा....
अनबूझा सा..
और कहना चाह कर भी
मैं निरुत्तर हो जाती हूँ !
बस यहीं पर...
मैं अपने सारे ज़ज्बातों को.
अपने सारे लफ़्ज़ों को
बेबस और कमज़ोर पाती हूँ !!





18 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर...
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  2. thahr gaye they
    ab phir se chalne lago ho
    kab daudoge
    intzaar karenge

    कहना चाह कर भी
    मैं निरुत्तर हो जाती हूँ !
    बस यहीं पर...
    मैं अपने सारे ज़ज्बातों को.
    अपने सारे लफ़्ज़ों को
    बेबस और कमज़ोर पाती हूँ !!
    wo kyaa kah rahaa hai
    chup chaap suntee rahtee hoon!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. और चुप रहकर सब कुछ बयाँ कर देती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अंतर्मन की गहराई से लिखी
      सुन्दर भावपूर्ण रचना है

      हटाएं
  4. सच कई बार लफ्ज़ और अलफ़ाज़ खो जाते हैं जज्बातों में......बहुत सुन्दर और शानदार पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  5. अंतर्मन की गहराई से लिखी
    सुन्दर भावपूर्ण रचना है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग "meri kavitayen" पर भी पधारने का कष्ट करें, आभारी होऊंगा /

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंतर्मन की गहराई से लिखी सुन्दर भावपूर्ण रचना है
    By sangita on नमी ...... at 7:44 AM

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावनाएँ ऐसी ही होती हैं...शब्दों की पकड़ से बाहर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut ache shabd tanhayi .
    .me bate karne ke liye ...aabhar ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. और कहना चाह कर भी
    मैं निरुत्तर हो जाती हूँ !
    बस यहीं पर...
    मैं अपने सारे ज़ज्बातों को.
    अपने सारे लफ़्ज़ों को
    बेबस और कमज़ोर पाती हूँ !!
    ...
    बहुत प्यारी लगी आपकी बेबसी !! :)

    उत्तर देंहटाएं