गुरुवार, 5 जनवरी 2012

तुम मुझे इस तरह पा सकते हो....

  
 
तुमने कहा था...
तुम मुझे पाना चाहते हो
अपने आस-पास,
मुझे छूना चाहते हो !
मुझे नज़दीक से
महसूस करना चाहते हो !
तुम्हें नहीं पता....
मैं तो हूँ हर वक़्त
तुम्हारे पास,तुम्हारे साथ !
बस.....
तुम्हें महसूस करना होगा मुझे !
मैं साँसों की तरह  
तुम्हारी हर सरगोशी में हूँ !
मैं धड़कन की तरह
तुम्हारे दिल के बहुत नज़दीक हूँ !
हथेली की गर्माहट की तरह
तुम्हारी हलकी सी छुअन में हूँ ! 
तुम्हारे क़दमों के तले 
सूखे पत्तों की सरसराहट में हूँ !
तुम्हारे बदन को छूती हुई
ठंडी हवा की सुगबुगाहट  में हूँ !
तुम्हारे गम में  हूँ.. 
तुम्हारी मुस्कराहट में भी हूँ !
किसी परेशानी में आयी
तुम्हारे माथे की चंद बूंदों में भी हूँ !
तुम्हारी हमकदम,तुम्हारी हमसफ़र
हर जगह,हर वक़्त,तुम्हारे साथ....!
ध्यान से देखना मैं ही तो हूँ..!!

26 टिप्‍पणियां:

  1. वाह पूनम जी..
    प्यार का खूबसूरत एहसास....
    सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर और सराहनीय है,
    रचना मुझे बहुत ये भाई।
    पूनम जी सुन्दर कविता की,
    मेरी स्वीकृत करें बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. anjani si kashish hae aaj ki post men . pyari rchna hae.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम्हें महसूस करना होगा मुझे !
    मैं साँसों की तरह
    तुम्हारी हर सरगोशी में हूँ !
    मैं धड़कन की तरह
    तुम्हारे दिल के बहुत नज़दीक हूँ !
    हथेली की गर्माहट की तरह
    तुम्हारी हलकी सी छुअन में हूँ !
    तुम्हारे क़दमों के तले
    सूखे पत्तों की सरसराहट में हूँ !

    ऐसे अहसासों को महसूस करने के लिए तो भावनात्मक रूप से बहुत गहरे में उतरना होगा ....बेहद प्रशंसनीय प्रस्तुति ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut khoob ... Kash Tum Bhi vaqt hote aur rahte mere Saath hamesha ... Lajawab abhivyakti ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुबसूरत अहसास !
    भावनात्मक प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  7. उफ्फ्फ पूनम जी आप तो बहुत जगह हैं ...लगभग सभी जगह ....आपका ऐसा मुक्तरूप से हर जगह होना बहुत अच्छा लगा ... यही तो सार्थक 'होना'है
    सही मायने में समर्पण और प्रेम दर्शाती हुई इस रचना के लिए हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर रचना , सुन्दर भाव, बधाई.

    पधारें मेरे ब्लॉग meri kavitayen पर भी, मुझे आपके स्नेहाशीष की प्रतीक्षा है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हल जगह साथ हूँ ... बस एहसास होना चाहिए .. इन भावों से ओत प्रोत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. ख़ूबसूरत मुहब्बत के अहसास.......सिर्फ अहसास है ये रूह से महसूस करो|

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुहब्बत के ख़ूबसूरतअहसासtum se door to hoon
    phir bhee door nahee
    dil se chaahte ho to
    dil mein jhaank kar dekho
    main wahaan baithaa hoon

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुम्हारे माथे की चंद बूंदों में भी हूँ !
    तुम्हारी हमकदम,तुम्हारी हमसफ़र
    हर जगह,हर वक़्त,तुम्हारे साथ....!
    ध्यान से देखना मैं ही तो हूँ..!!

    भावपूर्ण रचना के लिये बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  13. pyar ka ahsas karati behad sundar rachana hai...
    aaj apko follow kar rahi hu taki aage bhi sath bana rahe....

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut komal rachna, sachcha sathi humsafar ban kar har pal sath hota hai, bas mehsoos karne ki zarurat hai. shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अहसास ही तो है जो हमें जिंदा रखता है...बहूत ही खूबसूरत रचना लिखी है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. अहसास को बयां करती खुबसूरत रचना, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. बस.....
    तुम्हें महसूस करना होगा मुझे !
    मैं साँसों की तरह
    बहूत खूबसूरत रचना बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत प्यारी ...प्यार से भरी लेखनी

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरे नए पोस्ट "मुझे लेखनी ने थामा इसलिए मैं लेखनी को थाम सकी" (मन्नू भंडारी) पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं