शुक्रवार, 27 सितंबर 2013

तेरी छत पे था चमका एक तारा...



तेरी छत पे था चमका एक तारा...
न जाने किस लिए तुमने पुकारा..!

न था वो चाँद मेरा आशना यूँ...
मगर तुमको भरोसा कब हमारा..!

तुम्हारी राह पर नज़रें बिछायीं...
कुसूर इतना ही था केवल हमारा..!

जमाना देखता है जिसको हरदम.. 
वही महबूब होगा अब हमारा..! 

निगाहों में कोई तो ख्वाब आये...
कोई तो राज़दां हो अब हमारा..!





9 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (22-09-2013) के चर्चामंच - 1383 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर रचना | आपके ब्लॉग को फॉलो कर लिया है | आप भी आयें |

    मेरी नई रचना :- जख्मों का हिसाब (दर्द भरी हास्य कविता)

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके ब्लॉग को ब्लॉग"दीप" में शामिल किया गया है | जरूर पधारें और फॉलो कर उत्साह बढ़ाएँ |
    ब्लॉग"दीप"

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम्हारी राह पर नज़रें बिछायीं...
    कुसूर इतना ही था केवल हमारा..

    प्रेम में ऐसे करूस तो हो ही जाते हैं ... पर मंजिल मिल जाए तो सब कबूल ...

    उत्तर देंहटाएं