मंगलवार, 27 अगस्त 2013

मेरे अपने......



एक खुशी तुझसे मिलने की..
एक गम तेरे बिछड़ने का..
था एक दर्द रोने का..
था एक दर्द मुस्कुराने का..
कुछ ख्वाब अनछुए से..
था दर्द टूट जाने का.. 
जो नींद में नहीं आते.. 
इंतज़ार ऐसे सपने का.. 
छू गया जो मुझको चुपके से.. 
एक हाथ कोई अपने का.. 
कोई मुझसे बात करता है.. 
कोई मुझमें मुझ सा रहता है..
है जो साथ मेरे अपने सा.. 
है ये साथ मेरे अपने सा...!!



14 टिप्‍पणियां:

  1. कोई मुझमें मुझ सा रहता है..
    ***
    सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोई मुझसे बात करता है..
    कोई मुझमें मुझ सा रहता है..

    बहुत सुंदर रचना,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    उत्तर देंहटाएं
  3. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!!आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (29-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : शतकीय अंक" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 29-08-2013 को चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति सुंदर...

    आप की ये रचना आने वाले शुकरवारयानी 30/08/2013 की नयी पुरानी हलचल पर लिंंक की गयी है... आप भी इसहलचल में शामिल होकर सभी रचनाओं पर भी अपनी टिप्पणी दें...
    इस संदर्व में आप के विचारों आप का स्वागत है।


    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    कविता मंच [पर आप भी योगदान दें]
    हमारा अतीत [जो खोया है उसे वापिस लाना है... सहियोग दें...]

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम मय हो उठा ये वातावरण ...
    बहुत लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. अहा! सुन्दर..सुन्दर..सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं