सोमवार, 19 अगस्त 2013

हर रिश्ता.....एक कोशिश.....




तन की आवश्यकता हो तो...
कहीं भी पूरी की जा सकती है...
किन्तु इंसान एक ऐसा प्राणी है जो...
भावनात्मक तौर पर जुड़ना चाहता है...
वर्ना उसका हर रिश्ता समझौता है..! 
नज़दीक रह कर भी.. 
आदमी आदमी को नहीं पहचान पाता !
हाथ मिलते हैं....
शरीर भी मिलते हैं....!
पर दिल.....???
दिल नहीं मिलते !                                               
अगर फूल में रंगत हो, 
कोमलता हो,ताज़गी हो 
लेकिन खुशबू न हो...
तो वो फूल कैसा....????
संबंधों में मधुरता...
एक-दुसरे के लिए सम्मान ज़रूरी है 
तभी सम्बन्ध फलते फूलते हैं...
और ताउम्र चलते भी हैं...! 
झूठ, दंभ, दिखावा, बड़बोलापन 
और अपशब्दता... 
किसी भी सम्बन्ध को 
बेवक्त और बेमौत मारने के लिए काफी है....!!


***पूनम***




11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {मंगलवार 20/08/2013} को
    हिंदी ब्लॉग समूह
    hindiblogsamuh.blogspot.com
    पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra

    उत्तर देंहटाएं
  2. रिश्तों को परिभाषित करती भावयुक्त सुंदर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिश्तों को परिभाषित करती भावयुक्त सुंदर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा है, एक दूसरे का सम्मान करना ही वास्तव में गहरा प्रेम है..सम्मान बाहरी रूप का नहीं होता उन मूल्यों का होता है जिन्हें कोई अपना आदर्श बनता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच कहा अहि ... रिश्ते ऐसे नहीं बनते ... मन से मन का संबंध होना, भावनात्मक लगाव होना जरूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. कल 22/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत प्यारी और मन को छूती हुई कविता ..

    दिल से बधाई स्वीकार करे.

    विजय कुमार
    मेरे कहानी का ब्लॉग है : storiesbyvijay.blogspot.com

    मेरी कविताओ का ब्लॉग है : poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं