रविवार, 10 फ़रवरी 2013

नज़रें......








शम्मा जब दिल में जले और हो उजाला हर तरफ....
यार की ऐसी नज़र हो जाये तो क्या कीजिये....!!

उस नज़र के लाख सदके जो उठे जानिब मेरी...
गर रहे न कुछ खबर खुद की तो फिर क्या कीजिये...!!

उस गली से हम भी गुजरे थे कई शाम-ओ-सहर...
कोई भी खिड़की नहीं खुलती तो फिर क्या कीजिये...!!

हम तो सदियों से तेरी आवाज़ को तरसे सनम...
तेरी ही आवाज़ हो खामोश तो क्या कीजिये....!!

मेरी नज़रें जब कभी नज़रों से मिल जाये तेरी  
और झुक जाये यूँ ही शरमा के तो क्या कीजिये...!!






9 टिप्‍पणियां:

  1. उस नज़र के लाख सदके जो उठे जानिब मेरी...
    गर रहे न कुछ खबर खुद की तो फिर क्या कीजिये...

    ये उस नज़र का कसूर है की कुछ ओर ... बहुत खूब लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण रचना

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

  3. दिनांक 17/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    -----------
    अनाम रिश्ता....हलचल का रविवारीय विशेषांक...रचनाकार-कैलाश शर्मा जी

    उत्तर देंहटाएं