शुक्रवार, 3 अगस्त 2012

इन्तहा......

                                              


                                              
                                              देखना उसको ज़रूरी तो नहीं
                                              वो तो मौजूद कहीं है मुझमें ,
                                                   गुफ्तगू उससे की नहीं जाती
                                                   बन के साया जो रहा है मुझमें !
                                              इश्क की ये भी इन्तहा ही हुई 

                                              तन्हा हो के भी वो रहा मुझमें ,
                                                   तेरी तन्हाइयों में साथ रहूँ
                                                   ऐसी क्या कोई बात है मुझमें !






9 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है!!!!!!
    क्या बात है ?????

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूनम जी,वाह,,,,,क्या बात है,,,,
    सुंदर प्रस्तुति,,,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: रक्षा का बंधन,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरती से उकेरे हैं एहसास ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या बात है ...
    लाजवाबा अंदाज़ ...

    उत्तर देंहटाएं