सोमवार, 27 अगस्त 2012

न तुम समझे न समझे वो......







न तुम समझे न समझे वो ........


यही कहते थे कब से हम ..न तुम समझे न समझे वो
हमारा  दिल हमारा है... न  तुम  समझे  न समझे  वो !

हमारे  दिल तलक जाती थी  जो  राहें  मोड दीं तुमने
हुई तकलीफ अब तुमको...न तुम समझे न समझे वो !

इशारे कितने कर कर थक गए हम हो गए नाशाद
तेरी  ही  बेरुखी  थी  ये.....न तुम समझे न समझे वो !

हमारे  दिल  में अब  हम  हैं  नहीं  दूजा  यहाँ  कोई
मुबारक तुमको दिल तेरा...न तुम समझे न समझे वो !

तुम्हें  गैरों  से  फुर्सत कब....हमें अपने रकीबों  से
तेरी ही ये इनायत है.....न तुम समझे न समझे वो !


पटना.........
२६-०८-२०१२ 






8 टिप्‍पणियां:

  1. भाव-प्रवण रचना। मेरे ब्लॉग "प्रेम सरोवर" के नवीनतम पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुबसूरत अहसास समेटे लाजवाब पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारे दिल में अब हम हैं नहीं दूजा यहाँ कोई
    मुबारक तुमको दिल तेरा...न तुम समझे न समझे वो ..

    भाव भरी ... मासूम एहसास समेटे ... लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. बहुत सुन्दर सृजन , सादर
      .
      पधारें मेरे ब्लॉग पर भी , आभारी होऊंगा .

      हटाएं