सोमवार, 30 अप्रैल 2012

जुस्तजू..........








फलक पे चाँद-सितारे भी साथ देते हैं...
कभी तो हाथ बढ़ा कर उन्हें छुआ होता..!!


                                         जमीन है तो मयस्सर यहाँ  सभी के लिए...
                                         बस आसमान में चाहें तो घर नहीं होता..!!


अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..!!


                                         तू मेरे साथ,मेरे पास यूं तो है हर वक़्त...
                                         मैं तेरे पास रहूँ  बस यही नहीं होता...!!


जानती हूँ,मानता है मुझे गजल अपनी...
गा सके मुझको तरन्नुम में ये नहीं होता..!!





29 टिप्‍पणियां:

  1. पूनम जी , अब इससे बढ़के ग़ज़ल का प्रारूप क्या हो सकता है सारे हालात ग़ज़ल लिखने के बने हुए हैं .



    अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
    कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..!!


    तू मेरे साथ,मेरे पास यूं तो है हर वक़्त...
    मैं तेरे पास रहूँ बस यही नहीं होता...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जमीन है तो मयस्सर यहाँ सभी के लिए...
    बस आसमान में चाहें तो घर नहीं होता..!!

    तू मेरे साथ,मेरे पास यूं तो है हर वक़्त...
    मैं तेरे पास रहूँ बस यही नहीं होता...!!


    बहुत खूबसूरत गजल ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! अच्छी जुस्तजू है.
    खूबसूरत प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
    कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..!!

    वाह !!! बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बढ़िया गजल है....
    बेहतरीन भाव....

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह......................

    अरे इतनी वाहवाही से जी नहीं भरा............
    वाह वाह..................वाह वाह...

    जानती हूँ,मानता है मुझे गजल अपनी...
    गा सके मुझको तरन्नुम में ये नहीं होता..!!

    बहुत सुंदर पूनम जी.........

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी का शुक्रिया....!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
    कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..!!
    यकीनन
    बहुत सुन्दर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  9. मौसम दो ही हैं इस इश्क के
    एक तू और एक मैं
    सौदा जो करना हैं ,
    करना हैं संभाल के |.......अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
    कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..!!

    तू मेरे साथ,मेरे पास यूं तो है हर वक़्त...
    मैं तेरे पास रहूँ बस यही नहीं होता...!!

    waah maza aa gaya ye gazal padh kar.
    ye taste bhi apka itna damdaar hai kamaal hai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ! बेहद उम्दा गजल !

    उत्तर देंहटाएं
  12. अजीब शै है ये यारों गम-ए-मुहब्बत भी...
    कि जितना लुत्फ है इसमें कहीं नहीं होता..

    लुत्फ़ के साथ साथ गम भी बहुत होता है .... उअर उसमें भी एक लुत्फ़ ही छिपा होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छा लगा पढकर ! मेरे पोस्ट पर आपकी प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जानती हूँ,मानता है मुझे गजल अपनी...
    गा सके मुझको तरन्नुम में ये नहीं होता..!!
    बहुत सुंदर लिखा है ....
    सीधे ह्रदय तक पहुंची है बात ....!!
    शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. विश्वास सा नहीं होता ...
    यह रचना इतनी ही अच्छी है !
    आपको बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  16. shabd khoj raha huN, abhi safalta nahi mili hai... tareef ke liye kya kahuN.. muskura- bhar deta hun.. na jane aisa kyuN prateet hua ki maiN jo kehna chahta huN wahi apne kaha :-)

    उत्तर देंहटाएं
  17. उसने सुन कर गज़ल कहा कि गज़ल खूब क्या गाई है,
    चाँद समझ ना सका झील में उसकी ही परछाई है.
    जिसने छूकर चाँद सितारे , खुद को बना लिया तारा
    देख रहा अपनी दुनियाँ जो उसके लिये पराई है.

    भाव पूर्ण गज़ल जिसे पढ़ कर अपने आप ही गज़ल बनने लगती है.आभार.

    उत्तर देंहटाएं