सोमवार, 26 दिसंबर 2011

मुट्ठी भर धुप......



 २४-१२-२०११

 

मुट्ठी भर धूप

चुरा के रखी थी

न जाने कब से

सबकी आँख बचा के...

आज मैंने बिखरा दी है

अपने आँगन में !

क्या करें...

इतनी सर्दी है,

सूरज भी तो

नहीं आता आज कल

गर्मी देने.....

न जाने  कहाँ

छुपा रहता है जालिम.....!!

18 टिप्‍पणियां:

  1. लेकिन यहाँ लखनऊ मे तो अच्छी धूप खिल रही है।

    मैंने सूरज से बात कर ली है...कल से नहीं छुपेगा। :)

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे सर्दी में तो सूरज ज़ालिम नहीं है हाँ गर्मियों में ज़रूर हो जाता है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुट्ठी भर धूप
    चुरा के रखी थी
    न जाने कब से
    सबकी आँख बचा के...
    आज मैंने बिखरा दी है
    अपने आँगन में !

    ati sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा किया बिखरा दिया ...चलो अब उससे भी मुक्त हैं आप ...कुछ भी बचाने का सहेजने का झंझट ही नहीं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. garmee mein sooraj kee shikaayat
    dil mein thandak kee chaahat
    waah kitnaa badal jaate ho tum
    mausam ke hisaab se badalte ho tum

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. doobne wale ko tinke ka sahara hee bahut hai...aapke paas to mutthi bhar dhoop thee..accha laga..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुट्ठी भर धूप संभाल कर रख लें सर्दियों के लिए सुंदर भाव बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-741:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब ... मुट्ठी भर धूप कुछ तो राहत दे

    उत्तर देंहटाएं