रविवार, 4 नवंबर 2012

तो क्या कीजे......???




मर्ज़ जब हद से गुजर जाये तो क्या कीजे...
दवा  बेकार हो जाये तो क्या कीजे....!!

कभी देखा था प्यार से उसने हमको भी 
अब नज़र और कहीं जाये तो क्या कीजे !!

बात  का तो कोई  भी मतलब  न  था मेरी....
अपनी ही बात से मुकर जाये वो तो क्या कीजे !!

मैं चली थी तो साथ साथ उसके मंजिल को 
वो मुड़ा गया कहीं बीच रास्ते तो क्या कीजे !!

उम्र भर साथ किसी का हो ज़रूरी तो नहीं
बस एक अपना ही हो साथ तो क्या कीजे !!

मैंने उसको कभी कुछ भी न कहा था लेकिन ....
उसको मुझसे हैं फिर भी मलाल तो क्या कीजे !!





17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर शव्दों से सजी है आपकी गजल ,उम्दा पंक्तियाँ .
    बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद सुन्दर रचना बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत लाजबाब गजल,,,,,बधाई पूनम जी,,,,

    कहूँ कुछ उनसे,मगर यह ख्याल होता है,
    शिकायतों का नतीजा ही मलाल होता है,,,,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कहने...
    बहुत बढ़ियाँ गजल...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्र भर साथ किसी का हो ज़रूरी तो नहीं
    बस एक अपना ही हो साथ तो क्या कीजे !!


    कर तो कुछ भी नहीं सकते .... बस मलाल ही कर सकते हैं ... उम्दा गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह.....बहुत ही खुबसूरत लगी ग़ज़ल दी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह...
    बहुत बढ़िया गज़ल पूनम जी...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैंने उसको कभी कुछ भी न कहा था लेकिन ....
    उसको मुझसे हैं फिर भी मलाल तो क्या कीजे !!bahut badhiya ...poonam jee..




    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 6/11/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कभी देखा था प्यार से उसने हमको भी
    अब नज़र और कहीं जाये तो क्या कीजे !!...
    वाह वाह ... बहुत सुन्दर पंक्तियाँ साँझा करने के लिए बहुत बहुत आभार पूनम जी.

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत हैं ...
    http://rohitasghorela.blogspot.in/2012/11/blog-post_6.html

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ! बहुत खूबसूरत ! दिल को छू लिया !
    'जब रहबर ही बने दुश्मन...तो फिर क्या कीजे...'
    ~सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  12. वो भूले हैं आपको, आप कर रहे याद।
    पत्थर से करना नहीं, कोई भी फरियाद।।

    उत्तर देंहटाएं