शुक्रवार, 18 नवंबर 2011

तौबा.....

 
बीता दी उम्र हमने जिनके लिए ,
वो न खुश हुए हमारी उल्फत से !
खुदा करे  मेहरबानियाँ  हम पे अपनी,
बाज़  आये हम जमाने भर की मोहब्बत से...!!
 

14 टिप्‍पणियां:

  1. itnaa hataash naa ho
    kadrdaanon ko kadrdaan
    milte hein
    mohabbat karne waalon ke
    dil ke darwaaze band nahee hote

    bahut achhaa ,
    kshamaa keejiye
    rok nahee paayaa
    aap kaa honslaa badhaane ke liye
    bas likh daalaa

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुहब्बत से ही तौबा कर लीजिए ..बहुत खूब लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक मुहब्बत की वजह से ज़माने भर की मुहब्बत से तौबा ?
    अच्छी बात... सुन्दर प्रस्तुति !
    मेरी नई पोस्ट के लिए आये आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाज़ आये हम जमाने भर की मोहब्बत से...!!
    :)
    ये ठीक है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच ऐ ऐसी मोहब्बत से तौबा ही भली ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. पूनम जी
    सस्नेहाभिवादन !

    ऐसे तो मुहब्बत से बाज़ नहीं आना चाहिए …
    एक रास्ता बंद हो तो नया बनाना चाहिए …

    जवाबी तुकबंदी सही है या ग़लत … नहीं मा'लूम !


    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपने जवाब दिया मेरे लिए वो महत्त्वपूर्ण है...
    न कि ये देखना कि तुकबंदी सही है या गलत..!!
    और आप जैसे स्वर्णकार की कारीगरी में मैं कोई त्रुटि देखूँ....
    सपने में भी नहीं......!!
    यहाँ पधारने का धन्यवाद......!!

    उत्तर देंहटाएं