बुधवार, 13 अप्रैल 2011



नींदें.......

"नींदें"
आवारा ही होती हैं.....
जब चाहो तो नहीं आती
और....
बिन बुलाये ही
आ जाती हैं!
जिसको चाहो
उसे आने नहीं देती हैं
और अनजाने  को 
मेहमां बना बैठती हैं..!!
जहाँ चाहो
वहाँ नहीं जाने देतीं...
और...
अनजानी जगह
पहुंचा देती हैं..!!
सच में....
"नींदें आवारा" ही होती हैं....!!"

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ..अभी तक मुझे लगता था कि ख्वाब आवारा होते हैं :):)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही उम्दा सोच के साथ लिखा हुआ पोस्ट !मेरे ब्लॉग पर आए! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच कहा आपने नींदें वाकई आवारा ही होती हैं.
    मेरे ब्लॉग पर आकर स्नेह देने के लिए आपका दिल से शुक्रिया.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख्वाब के साथ-साथ नींदें भी आवारा....क्या बात है....
    यहां तक लाने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. नींद पर आपकी उम्दा सोच से भरी यह रचना अच्छी लगी !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पूनम जी,

    ये ब्लॉग भी आपका अच्छा लगा......खूबसूरत.....सपनो कि जगह नींदों का इस्तेमाल कुछ अलग सा लगा......प्रशंसनीय |

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या करें नींदें ऐसी ही होती हैं .....बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  9. पूनम जी, नींद एक छोटे बच्चे की तरह होती जो रूठ जाये तो मनाने में बहुत मुश्किल होती है अच्छी सोंच , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. जहाँ चाहो
    वहाँ नहीं जाने देतीं...
    और...
    अनजानी जगह
    पहुंचा देती हैं..!!
    सच में....
    "नींदें आवारा" ही होती हैं....!!"

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति |

    उत्तर देंहटाएं