रविवार, 10 अप्रैल 2011



तुम्हारे लिए.......


तुमने जो कहा नहीं....
दिल ने उसे महसूस किया !
ये क्यूँ हुआ ?
कैसे हुआ ?
कब हुआ ?
पता नहीं !
बस...
हो गया !!

***************************************************************

प्यार का एहसास भी
अजीब होता है !
जो न हो सामने
वो दिल के करीब होता है !!
हाथ न छू सकें जिसे
दिल जिसे महसूस करे
क्या कहें ?
ये रिश्ता ही अजीब होता है !!

3 टिप्‍पणियां:

  1. जो न हो सामने
    वो दिल के करीब होता है !!
    हाथ न छू सकें जिसे
    दिल जिसे महसूस करे

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ! नन्ही सी सटीक कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनों क्षणिकाएं बेहतरीन.

    उत्तर देंहटाएं