शनिवार, 8 सितंबर 2012

मुझे इक गीत चुनना है............




                                                     मुझे आना है तुम तक
                                                     नज़र फिर भी टिकी हैं...
                                                     आओगे तुम जिस राह पर....! 


                                                     मुझे इक गीत चुनना है
                                                     किसी होठों की लाली से 
                                                     यूँ ही अपनी  हथेली पर...!

                                                    मुझे इक ख्व्वाब लिखना है...
                                                    देखा सा अनदेखा सा...
                                                    किसी पलकों की चिलमन पर... !

                                                    बहारों से यूँ ही कुछ 
                                                    बात करनी है तुम्हारी...
                                                    मगर हैरान हूँ किस बात पर...!


    
बस अभी अभी....
***पूनम सिन्हा***


11 टिप्‍पणियां:

  1. अहसासों की प्यारी अभिव्यक्ति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अहसासों भरी बहुत लाजबाब रचना,,,,

    बहुत बढ़िया बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे इक ख्व्वाब लिखना है...
    देखा सा अनदेखा सा...
    किसी पलकों की चिलमन पर... !

    बहारों से यूँ ही कुछ
    बात करनी है तुम्हारी...
    मगर हैरान हूँ किस बात पर...!
    khubsurat

    उत्तर देंहटाएं