रविवार, 25 मार्च 2012

क्या कहा जाये......!!!




सेमल की रुई सा ये मन ,
कहीं दूर तक उड़ जाए !
पलाश के चटख रंगों सा,
मन बिखर-बिखर जाए !
हवा का झोंका धीरे से,
कानों में कुछ कह जाये !
इक ज़रा सी आहट भी,
तेरा एहसास दिला जाए !
और चाह कर भी तू न आये.....
तो बोलो......
क्या किया जाये.....???

22 टिप्‍पणियां:

  1. अरे सेमल का तकिया बना कर बिंदास सोया जाय...
    :-)

    प्यारी रचना है पूनम जी...मेरे आईडिया पर ध्यान ना दें...

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इक ज़रा सी आहट भी,
    तेरा एहसास दिला जाए !
    और चाह कर भी तू न आये.....
    तो बोलो......
    क्या किया जाये.....???

    सच में बहुत गंभीर प्रश्न है ....लेकिन ऐसे हालत में इश्क और भी परिपक्व होता जाता है ..लेकिन बहुत देर तक इन्जार करना भी तो सही नहीं है ???

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह |||
    इंतजार के लम्हे बहुत सुन्दर है..
    सुन्दर कविता.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस यह कविता किसी तरह उसे पढ़ा दी जाये ....कौन है जो खिंचा नहीं चला आएगा ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. नवरात्र के ४दिन की आपको बहुत बहुत सुभकामनाये माँ आपके सपनो को साकार करे
    आप ने अपना कीमती वकत निकल के मेरे ब्लॉग पे आये इस के लिए तहे दिल से मैं आपका शुकर गुजर हु आपका बहुत बहुत धन्यवाद्
    मेरी एक नई मेरा बचपन
    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: मेरा बचपन:
    http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/03/blog-post_23.html
    दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर !!
    नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएँ

    मेरा नया पोस्ट

     प्रेम और भक्ति में हिसाब !

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम की गहरी आकांक्षा लिए ... पर तू ही न आये तो क्या किया जाय ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. इंतजार की घडी बड़ी सुहानी होती है ! सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  9. और चाह कर भी तू न आये.....
    तो बोलो......
    क्या किया जाये.....??? SUNDAR :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. पूनम जी नमस्ते !

    और चाह कर भी तू न आये.....
    तो बोलो......
    क्या किया जाये.....???

    हर फूल, बदल , हवा ... हर शह से यही सवाल है ....
    बहुत ही सुन्दर ....

    मेरी रचना "दो छवियाँ" पर आपकी काव्यात्मक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. chanchal se ...khoobsoorat ehsaas ....!!
    bahut sunder rachna ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. इंतज़ार... इंतज़ार... इंतज़ार...तेरे आने का फिर न जाने का... बहुत कोमल रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. chahker bhi tu na aaye to ...bolo .... kya kiya jaye ...!!!!!

    aaj anjane me aapke blog per aa gayi hun ab to aati hi rahungi ... Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  15. और चाह कर भी तू न आये.....
    तो बोलो......
    क्या किया जाये.....???
    मुश्किल सवाल जवाब तो आपको ही देना हैं ......

    उत्तर देंहटाएं