रविवार, 4 मार्च 2012

आपकी चाहतें...और आपकी भी.....








                                                 लोग न जाने क्यूँ
                                                 हर इंसान से...
                                                 हर रिश्ते से... 
                                                 न जाने क्या चाहते हैं !
                                                             चाहतें जो उनकी हैं
                                                             लेकिन पूरी करने के लिए
                                                             किसी और के आगे 
                                                             हाथ पसारते हैं !
                                             वो नहीं जानते...
                                             कि चाहतें...
                                             बस चाहतें ही होती हैं,
                                             पूरी हो जाएँ तो
                                             हकीकत में तब्दील हो जाती हैं ! 
                                                         और हकीकत बनते ही
                                                         वही चाहतें.....
                                                         अपनी अहमियत खो देती हैं...!
                                             इस लिए गुज़ारिश है आपसे
                                             कि इन चाहतों को पूरा न होने दें,
                                             ये आपके लिए... 
                                             जीने का मकसद हैं
                                             और जूनून भी हैं 
                                             किसी के दिल का !
                                                                चाहतें......
                                                                बस आपकी चाहतें हैं...
                                                                इन पर पूरा का पूरा हक है
                                                                आपका......आपका.....
                                                                और सिर्फ आपका.....!!

14 टिप्‍पणियां:

  1. इस लिए गुज़ारिश है आपसे
    कि इन चाहतों को पूरा न होने दें,
    ये आपके लिए...
    जीने का मकसद हैं
    और जूनून भी हैं
    किसी के दिल का !
    बहुत बढ़िया भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,

    NEW POST...फिर से आई होली...
    NEW POST फुहार...डिस्को रंग...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ी पते की बात कही है कि चाहतें पूरी नहीं होने देनी चाहिए ...पूरी होते ही मकसद खत्म हो जाता है ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति !
    गहरी सोच ..!
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया भाव
    बहुत सार्थक प्रस्तुति है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना |होली पर हार्दिक शुभकामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर इन चाहतों पे कोई बस नहीं होता ... एक पूरी होती है दूसरी आ जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति सुन्दर...शुभकामनाएँ नियमित लेखन के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वो नहीं जानते...
    कि चाहतें...
    बस चाहतें ही होती हैं,
    पूरी हो जाएँ तो
    हकीकत में तब्दील हो जाती हैं !
    और हकीकत बनते ही
    वही चाहतें.....
    अपनी अहमियत खो देती हैं...!

    बहुत खुबसूरत लगी ये पोस्ट ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब ....पर कुछ चाहते कभी ना पूरी होने के लिए ही साथ जुड़ती हैं ...


    होली के पर्व की बहुत बहुत शुभकामनएं

    उत्तर देंहटाएं
  10. chahat jeene ka maksad hai.. par pura kyon na hone den.. chahate khatm kahan hoti.. ek pura hoga, naya aa jayega..DI:)

    उत्तर देंहटाएं