मंगलवार, 20 सितंबर 2011


 
 
आकर्षण..........
 
 
जिन्दगी के इस
उतार-चढ़ाव में भी
रहते हैं दोनों साथ-साथ....
कभी-कभी मौन,
तो कभी कुछ बुदबुदाते,
कुछ चीखते-चिल्लाते...
बहे चले जा रहे हैं
एक-दूसरे का
हाथ पकड़े हुए
जोर से..
छोड़ने की चाह में
बंधन और कसता जाता है...!
कुछ है जो उन्हें एक-दूसरे से
जुदा नहीं होने दे रहा है...!
दोनों ही समर्पित खुद को,
साथ-साथ एक-दूसरे को भी, 
विपरीत का बंधन भी
आकर्षण से कम नहीं...!
 

14 टिप्‍पणियां:

  1. विवाह जैसे बंधन को बखूबी बयान किया है आपने......बहुत सुन्दर पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  2. विपरीत का बंधन भी
    आकर्षण से कम नहीं.

    वाह क्या बात कही है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतिम पंक्तियाँ रचना का सार है , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. 'विपरीत का बंधन भी
    आकर्षण से कम नहीं '
    ,,,,,,,,,,,,,वाह , शाश्वत सत्य को उद्घाटित करती पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है.
    कृपया पधारें
    चर्चामंच-645,चर्चाकार- दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  8. बंधन प्रेम का हो तो साथ छूटता नहीं है .. लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! रात और प्रात की यात्रा... बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. दोनों ही समर्पित खुद को,
    साथ-साथ एक-दूसरे को भी,
    विपरीत का बंधन भी
    आकर्षण से कम नहीं...!

    सुन्दर अभिव्यक्ति ... यह समर्पण ही है तो आकर्षित करता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. पहली बार आपके ब्लाग पर आया हूं
    वाकई बहुत अच्छा लगा
    बहुत सुंदर रचना है
    प्रस्तुति काबिले तारीफ

    उत्तर देंहटाएं
  12. "विपरीत का बंधन भी
    आकर्षण से कम नहीं...!"

    आपकी नवीनतम "तू और मैं"... और इस पोस्ट दोनों के चित्र ने मुझे आकर्षित किया....
    अच्छे लेखन के लिए बधाई हो ....

    उत्तर देंहटाएं