मंगलवार, 21 जून 2011

खामोशियाँ........



जब मिले हम
कुछ न कुछ
कहते रहे
सुनते रहे,
हाथ में
बस हाथ थामे
हम यूँ ही बैठे रहे !
क्या कहा तुमने ?
सुना मैंने ?
ये जानूं न !
शब्द यूँ ही...
निरर्थक बहते रहे !
नयन से
नयनों की भाषा
कह रही थी कुछ !
अधर से
अधरों के कम्पन
सुन रहे थे कुछ !
धड़कने दिल की
न जाने थम गयीं क्यूँ ?
मूँद कर नयनों को
काँधे सिर धरा क्यूँ ?
समझ पायी
इस मिलन को
मैं आज तक न !
क्यूँ करूँ स्नेह इतना
मैं जान पायी न !
धड़कने
बस धड़कनों को
तोलती हैं,
कुछ कहो न आज बस
क्योंकि तुम्हारी
खामोशियाँ ही बोलती हैं....!!

16 टिप्‍पणियां:

  1. खामोशियाँ ही बोलती है.....सच है मुहब्बत लफ़्ज़ों की मोहताज नहीं होती .....बहुत खूब |

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ कहो न आज क्योकि बस तुम्हारी ख़ामोशी ही बोलती है
    क्योकि मेरे दिल की हर धड़कन बस नाम तुम्हारा बोलती है ..... बहुत सुन्दर ....पूनम जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ कहो न आज बस
    क्योंकि तुम्हारी
    खामोशियाँ ही बोलती हैं....!!

    कुछ खामोशियाँ दिल के करीब होती है

    उत्तर देंहटाएं
  5. अधर से
    अधरों के कम्पन
    सुन रहे थे कुछ !

    naye naye blogs ko padhnein ki aadat aap tak le aayee.. utkrist rachna ..hardik badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  6. mohabbat ki lafz khamoshi hi hoti hai sayad...:)
    khamoshiyon me najre bolti hain......:)
    pyari see rachna......

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यार की भाषा का अनुपम निरूपण किया है आपने.

    कुछ कहो न आज बस
    क्योंकि तुम्हारी
    खामोशियाँ ही बोलती हैं....!!

    प्यार में सब कुछ संभव है.
    आखिर यह दिल से होता है,
    जुबां कुछ न बोले तब भी
    दिल की भाषा में बातें होतीं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. धड़कने
    बस धड़कनों को
    तोलती हैं,
    कुछ कहो न आज बस
    क्योंकि तुम्हारी
    खामोशियाँ ही बोलती हैं....!!
    .....
    नदी के वेग जैसा सहज है आपके प्रेम का प्रवाह और क्या कहूं कुछ प्रश्न हमेशा अनुत्तरित ही रहते हैं ...
    आपको नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  10. "शब्द यूँ ही...
    निरर्थक बहते रहे !
    नयन से
    नयनों की भाषा
    कह रही थी कुछ !
    अधर से
    अधरों के कम्पन
    सुन रहे थे कुछ !"
    पूनम जी,
    भावनाओं से ओत-प्रोत रचना के लिए बधाई.आपने तो एक साथ ही सूर और बिहारी को साथ ला खड़ा किया है.मन को झंकृत करती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्दों का जादू .. मन में उतरती हुई नज़्म , क्या कहूँ .. ख़ामोशी छा गयी है जेहन में .. बस..

    आभार
    विजय
    ------------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं