शनिवार, 25 मई 2013

तुम्हारे लिए....







ज़ज्बातों के भरे समंदर जाने कैसे...कब..सूख गए थे
मेरी इन आँखों में आँसू आते - आते  ऐसे रूठ गए थे !

इक तेरे  होने  ने जाने..क्या-क्या दे डाला मुझको है 
हरसिंगार खिले चेहेरे पे....जो  पहले सूख  गए  थे !

एक अनजानी खुशबू मेरे हर सू ऐसी बिखर  गयी जब
अपने से भी लगे अजनबी....जब अपने भी गैर लगे  थे !


***पूनम***




20 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसा ही अहसास होता है ,,अपने से भी लगे अजनबी ..जब अपने भी गैर लगे थे ,,सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. इक तेरे होने ने जाने..क्या-क्या दे डाला मुझको है..
    behtareen..

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरती से उकेरे हैं जज़्बात

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोमल अहसासों से बुनी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और सरस एहसास.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (26-05-2013) के चर्चा मंच 1256 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़ज्बातों के भरे समंदर जाने कैसे...कब..सूख गए थे
    मेरी इन आँखों में आँसू आते - आते ऐसे रूठ गए थे !.bahut hi sundar ahsaas ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज़ज्बातों के भरे समंदर जाने कैसे...कब..सूख गए थे
    मेरी इन आँखों में आँसू आते - आते ऐसे रूठ गए थे !

    अति सुन्दर अभिव्यक्ति !

    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक अनजानी खुशबू मेरे हर सू ऐसी बिखर गयी जब
    दिल को छू गयी आपकी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  10. इक तेरे होने ने जाने..क्या-क्या दे डाला मुझको है
    हरसिंगार खिले चेहेरे पे....जो पहले सूख गए थे !..
    यूं तो एहसास ही बहुत होता है किसी एक का ... फिर अगर वो साथ हो तो बात ही क्या ... जीवन बदल जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं