गुरुवार, 14 मार्च 2013

तुम्हारा साथ.....







तुम्हारे साथ थी मैं कल..
और मैं कल भी रहूंगी..
तुम्हारे साथ हूँ आज...
और हमेशा रहूंगी..
तुम्हारी सांसों में हूँ..
मैं धड़कन में रहूंगी..
तुम्हारी बात में घुल जाउंगी..
मैं बन कर मिश्री..
तेरी मुस्कान बन के 
मैं तेरे होठों पे बसूंगी...
तेरे हाथों की गर्मी से 
पिघलता है मेरा मन..
मैं बन के आँसू एक बार
फिर से पलकों में सजूंगी...!!

***पूनम***



9 टिप्‍पणियां:

  1. सुचना ****सूचना **** सुचना

    सभी लेखक-लेखिकाओं के लिए एक महत्वपूर्ण सुचना सदबुद्धी यज्ञ


    (माफ़ी चाहता हूँ समय की किल्लत की वजह से आपकी पोस्ट पर कोई टिप्पणी नहीं दे सकता।)

    उत्तर देंहटाएं
  2. तेरे हाथों की गर्मी से
    पिघलता है मेरा मन..
    -----------------------
    पिघलती यादें ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... पलकों में सपने की तरह ... आंसू की बूँद की तरह ...
    मरन एहसास लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन....प्रेम गली अति सांकरी या में दो न समाही ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. तेरी मुस्कान बन के
    मैं तेरे होठों पे बसूंगी...
    तेरे हाथों की गर्मी से
    पिघलता है मेरा मन..

    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी .बेह्तरीन अभिव्यक्ति.शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. wah poonam ji bahut hi sundar rachana ke liye hardik badhai ....sath hi holi pr hardik badhai bhi .

    उत्तर देंहटाएं