सोमवार, 12 मई 2014

करूँ मैं क्या....मुझे आँसू दिखाना ही नहीं आता..




करूँ मैं क्या....मुझे आँसू दिखाना ही नहीं आता..
सबक सीखा गया तुझसे...सिखाना ही नहीं आता !

बड़ी बेदर्दियों से तुमने तोड़ा जिस तरह दिल को..
बहुत सी कोशिशें कीं पर...बनाना ही नहीं आता !

मुसलसल राह तेरे संग गुजरी तंग फिर भी..कुछ
सुकूं रहता तेरे संग...गर जमाना ही नहीं आता !

हमारे दरमियाँ अब फासले जो इस तरह से हैं,
मिटेंगे किस तरह हमसे...मिटाना ही नहीं आता !

कभी सोचा न था ये ज़िंदगी कुछ इस तरह होगी..
ज़माना भी सुने हमसे... फ़साना ही नहीं आता !

तुझे दें बद्दुआ अब हम...नहीं फ़ितरत हमारी है..
बुरी बातों को कहना और सुनाना ही नहीं आता !


***पूनम***
१२/०५/२०१४


2 टिप्‍पणियां:

  1. तुझे दें बद्दुआ अब हम...नहीं फ़ितरत हमारी है..
    बुरी बातों को कहना और सुनाना ही नहीं आता ..
    बहुर खूब ... सादगी भरा शेर ... पर ऐसे लोगों को दुनिया कहाँ जीने देती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुझे दें बद्दुआ अब हम...नहीं फ़ितरत हमारी है..
    बुरी बातों को कहना और सुनाना ही नहीं आता !

    वाह ! बहुत खूब, सुंदर गजल लिखी ....पूनम जी ...!

    RECENT POST आम बस तुम आम हो

    उत्तर देंहटाएं