रविवार, 10 नवंबर 2013

मगर हम कुछ नहीं कहते....





हुई तौहीन उल्फत में...मगर हम कुछ नहीं कहते...
नहीं हमसे मुखातिब वो...मगर हम कुछ नहीं कहते...!

कहा कुछ भी नहीं हमने...नज़र उनकी तनी क्यूँ है...
वफ़ा उनको नहीं आती...मगर हम कुछ नहीं कहते..!

वो गैरों से मिलाते आँख हैं...यूँ तो भरी महफ़िल
चुराते आंख वो हमसे...मगर हम कुछ नहीं कहते..!

यूँ उनकी बेवफाई के...यहाँ चर्चे नहीं हैं कम
हमारा दिल भी माने है...मगर हम कुछ नहीं कहते..!

कभी वो बेवफा...बैठा था मेरी बज़्म में आ कर
जुबां चाहे कहें हम कुछ...मगर हम कुछ नहीं कहते..!



***पूनम***





12 टिप्‍पणियां:

  1. कभी वो बेवफा...बैठा था मेरी बज़्म में आ कर
    किया था इंतिखाब हमने...मगर हम कुछ नहीं कहते..!
    बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : फिर वो दिन

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार १२ /११/१३ को चर्चामंच पर राजेशकुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है-----yahan bhi aaiye --http://hindikavitayenaapkevichaar.blogspot.in/ देख कर अखबार माएं क्यों सिहरती जा रही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब आपकी इस गज़ल के लिये तो कहना ही पडेगा.......... वाह........ क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके ग़ज़ल के हर शब्द बहुत भारी लगे .....बहुत खूब !
    नई पोस्ट काम अधुरा है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब ... लाजवाब शेर सजे हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut sundar prastuti he
    Magar chumat rahe yese hi kuch na kuch kahiye

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं
  8. उत्तम...इस प्रस्तुति के लिये आप को बहुत बहुत धन्यवाद...

    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर चित्रण , भाव पूर्ण रचना , बधाई आपको ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut khoobsurat ghazal hai..
    Please visit my site and share your views... Thanks

    उत्तर देंहटाएं